Posted by: Prem Piyush | December 19, 2006

नन्हीं – नन्हीं भावनाएँ


नन्हीं – नन्हीं भावनाएँ,
सच कहूँ – मेरी कविता सी ,
मेरे सामने के रास्ते में,
निकल पड़ती है, यूँ ही ।

बिना जाने वो नन्हीं,
निकल पड़ती है,
उस धुप में खेलती,
फिर गिर पड़ती है ।

देख गिरी मेरी नन्हीं,
समझाता हूँ – न जाना ।
खुब रोकर सो पड़ती है,
मेरे कंधो पर बेचारी ।

कितनी ही बार न ,
उससे गलती होती ,
फिर भी सीधी सी,
बस यूँ ही निकल जाती ।

अब भार सी हो गयी,
मेरे इन कंधों पर,
ये नन्हीं, मेरी छोटी सी।
परन्तु किसे दे दूँ ?

शायद यही मेरी नियती है,
यह नन्हीं मेरी प्यारी सी।
बिछुड़ना नहीं चाहती,
कहती है – यहीं रहूँगी ।

Advertisements

Responses

  1. Nanhi nanhi bhawanayein par bahut pyari aur sundar bhawanayein


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: