Posted by: Prem Piyush | December 6, 2006

होली की सुबह


होली की सुबह, आँचल का कोना दबाए ,
अँखियाँ बिछाये, एक सजनी सोचती है ,
कहीं दरवाजे पे आहट तो नहीं हुई ,
साजन को गये, शायद बरसों हो गये ।

काश वो आज आते, एक उपहार सजाये,
सासु माँ की नजर बचाकर, वो फिर कहते,
कुछ समझकर, बाकी अनजाने में,
“क्यों जी, आज फिर रंग जाएँ उसी रंग में । “

लाल-हरे, पीले-गुलाबी, दोनों रंग जाते,
सिर्फ साजन रंग दिखता आज आईने में,
गहरे रंगे गाल भी आज गुलाबी दिखते,
स्पंदित फिर काँप जाती देह बेचारी ।

आँगन की रंगोली को देखकर सोचती,
सखियाँ रंगोली में रंग भरेगी,
दोपहर देवर जी की भुतहा टोली पुकारेगी,
“भाभी जी, जरा बाहर आओ, आज होली आई है ।”

शाम को आवाज आती- “बहू माँ, बच्चों को बिठाओ”,
फुदकती वो फिर चाट-पकोड़ी, पुआ-पकवान सजाती,
बस हँसती और चिकोटी काट फिर बता देती उनको
“दीपू भाई, अभी तो दही बड़े बाकी ही हैं । “

“ट्रिंग..ट्रिंग…”
अरे…. । दरवाजे पर सही में आहट हूई है ।

—09 Mar.’06 11:00 AM

Advertisements

Responses

  1. poem with colourful feelings and emotions like holi’s colours.

    🙂


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: