Posted by: Prem Piyush | April 27, 2005

मैं दुःखी करता हूँ न आपलोगों को ।


माँ कहती हैं – बेटा दुनिया ऐसे ही दुःखी है , तुम्हारी दुख की कविताएँ या लेख उनके दुःखों को कम नहीं कर सकती है। भाग-दौङ के इस युग में जब लोग अपना बहुमूल्य समय में कुछ पढने को आएँ तो फिर दुःख भरे लेख उनको पढवाना उचित नहीं जान पढता है।

मैं थोङा-बहूत दुःखी करता होउँगा आपलोगों को, यह भी मैं जानता हूँ । युँ मैं भरसक कोशिश करता हूँ कि मेरे लेखों से पाठकों को दुःख न पहूँचे। फिर भी मेरे दर्द का व्रण नासुर ना बन जाए, सो दर्द को आप सबों के साथ बाँट लेता हूँ तो आराम महसुस होता है ।

अर्जित ज्ञान, अनुभवों एवं उससे उत्पन्न विचारों में पारदर्शिता ही मुझे पसंद है । मेरे बारे में कहने को आप भी खुले मंच पर स्वतंत्र है । न कहना चाहें तो भी ठीक ।

मतलब आपलोग जिसमें खुश वही सही , वरना मैं इंटरनेट पर लिखता क्यों, कागज की डायरी पर ही लिखा छोङ देता ।

नोट – लिखते-लिखते यह इतना बङा हो गया कि कविता का भुमिका न होकर एक अलग लघु लेख बन गया।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: