Posted by: Prem Piyush | February 12, 2005

कभी किसी ने देखा है ?


कभी किसी ने देखा है ?

उन चट्टानों के टीलों में
अप्रत्याशित ढलानों के बीच,
ढलता है रक्तिम सुरज जब
फिर वहाँ निझॅर बहते हैं।

कभी किसी ने देखा है ?

उस निझॅर के प्रवाह में
कभी विनम्र होती जो बुंदें,
इक झुरमुट के तलहटी में
जाकर अटकती रहती है।

कभी किसी ने देखा है ?

अटकती बुंदो के संगम में
जलमय राशि के ठीक मध्य,
शनैः शनैः एक अद्भुत जलज
फिर विराजमान होता है।

कभी किसी ने देखा है ?

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: